scorecardresearch
सरसों किसानों के लिए अच्छी खबर, बंपर भाव पर होगी सरकारी ख़रीद

सरसों किसानों के लिए अच्छी खबर, बंपर भाव पर होगी सरकारी ख़रीद

कृषि मंत्री ने कहा कि रबी फसलों के मार्केटिंग सीजन के दौरान मूल्य समर्थन योजना के तहत सरकार की यह तैयारी है कि वो सरसों की खरीद एनमएसपी पर करेगी. इसका सीधा लाभ उन किसानों को होगा जिन्होंने सरसों का बंपर उत्पादन किया है. कृषि मंत्री ने कहा कि सरकार के लिए किसानों का हित सर्वोपरि और सरकार हमेशा किसानों के भलाई के लिए सोचती है.

advertisement

सरसों की खेती करने वाले किसानों के लिए एक अच्छी खबर आ रही है. क्योंकि इस बार सरसों की फसल अच्छी हुई और सरकार इसकी खेती को और बढ़ावा देना चाहती है. सरसों के हुए बंपर उत्पादन के लिए केंद्रीय कृषि मंत्री अर्जुन मुंडा ने सभी किसानों का आभार व्यक्त किया है, साथ ही उन्होंने कहा कि इस साल किसानों ने सरसों की अधिक उत्पादन किया है इसलिए वो बधाई के पात्र हैं. अधिक से अधिक किसान सरसों की खेती करने के लिए प्रोत्साहित हो और सरसो का उत्पादन बढ़े इसे देखते हुए सरकार ने सभी संबंधित विभागों को आदेश दिया है कि सरसो की खरीदारी न्यूनतम समर्थन मूल्य पर की जाए. ताकि किसी भी किसान को अपनी उपज बेचने में परेशानी नहीं और अच्छी कीमत भी मिले. 

एक कार्यक्रम के दौरान कृषि मंत्री ने कहा कि रबी फसलों के मार्केटिंग सीजन के दौरान मूल्य समर्थन योजना के तहत सरकार की यह तैयारी है कि वो सरसों की खरीद एनमएसपी पर करेगी. इसका सीधा लाभ उन किसानों को होगा जिन्होंने सरसों का बंपर उत्पादन किया है. कृषि मंत्री ने कहा कि सरकार के लिए किसानों का हित सर्वोपरि और सरकार हमेशा किसानों के भलाई के लिए सोचती है. इसलिए सरकार ने किसानों से कहा है कि अगर सरसों की कीमत बाजार में एमएसपी से नीचे जाती है तो किसान परेशान नहीं हो, सरकार एमएसपी की तय कीमतों के आधार पर सरसों की खरीद करेगी. इसके लिए सभी जरूरी इंतजाम पूरे कर लिए गए हैं. 

ये भी पढ़ेंः Explainer: क्या है MSP Guarantee कानून जिसके लिए दिल्ली में मोर्चा ले रहे हैं किसान? एमएसपी का पूरा गणित समझिए 

नोडल एसेंसियों को दिए गए थे आदेश

अर्जुन मुंडा ने कहा कि इस बार के रबी मार्केटिंग सीजन के लिए पहले से केंद्रीय नोडल एजेंसियों को मूल्य समर्थन योजना के तहत सरसों की खरीद करने के लिए तैयार रहने के लिए कहा गया था. ताकि जब किसान अपनी फसल को उपजाकर खेत में लाएंतो उन्हें अपनी फसल बेचने में किसी प्रकाप की पर्शानी नहीं हो. कृषि मंत्री ने कहा कि रबी मार्केटिंग सीजन 2023 के समय     असम, मध्यप्रदेश, राजस्थान और उत्तर प्रदेश जैसे राज्यों से मूल्य समर्थन योजना के तहत सरसों की खरीद की गई थी. इस दौरान 28.24 लाख मिट्रिक टन सरसों खरीद की मंजूरी मिली थी.

ये भी पढ़ेंः Kisan Andolan: दिल्ली में 12 मार्च तक धारा 144 लागू, इन गतिविधियों पर लगा प्रतिबंध

5650 रुपए प्रति क्विंटल है सरसों की एमएसपी

इस बार किसानों को सरसों की सही कीमत दिलाने के लिए सरकार ने सभी सरसों उत्पादक राज्यों को सूचित कर कहा है कि अगर उनके राज्य में किसानों को सरसों की एमएसपी से कम मिल रही है या उन्हें कम कीमत पर सरसों बेचना पड़े मूल्य समर्थन योजना के तहत सरसों की खरीद का प्रस्ताव केंद्र के पास समय समय पर भेज सकते हैं. उन्होने कहा कि रबी मार्केटिंग सीजन 2024 के लिए सरसों की एमएसपी 5650 रुपए प्रति क्विंटल रखी गई है. इस तरह से सरसों किसानों को अपने उत्पाद का वाजिब मूल्य भी मिल जाएगा और उन्हें किस प्रकार की परेशानी का सामना नहीं करना पड़े.