scorecardresearch
किसान कूच पर रार: शंभू बॉर्डर पर हरियाणा पुलिस ने छोड़े आंसू गैस के गोले, कुछ किसान हिरासत में

किसान कूच पर रार: शंभू बॉर्डर पर हरियाणा पुलिस ने छोड़े आंसू गैस के गोले, कुछ किसान हिरासत में

अधिकारियों ने कहा कि हरियाणा पुलिस द्वारा बैरिकेड्स से दूर रहने की अपील के बावजूद, कई युवा वहीं रुके रहे और बैरिकेड्स के ऊपर खड़े रहे. जब कुछ युवाओं ने लोहे का बैरिकेड तोड़ दिया और उसे घग्गर नदी के पुल से नीचे फेंकने की कोशिश की, तो पुलिस ने कई राउंड आंसू गैस के गोले छोड़े.

advertisement
किसानों को रोकने के लिए छोड़े गए आंसू गैस के गोले किसानों को रोकने के लिए छोड़े गए आंसू गैस के गोले

हरियाणा पुलिस ने मंगलवार को आंसू गैस के गोले फेंके जब किसानों के 'चलो दिल्ली' विरोध मार्च का हिस्सा रहे युवाओं के एक समूह ने अंबाला में शंभू सीमा पर लगाए गए बैरिकेड्स को तोड़ने की कोशिश की. अधिकारियों ने कहा कि हरियाणा पुलिस द्वारा बैरिकेड्स से दूर रहने की अपील के बावजूद, कई युवा वहीं रुके रहे और बैरिकेड्स के ऊपर खड़े रहे. शंभू बॉर्डर पर कुछ किसानों को हिरासत में भी लिया गया है. पुलिस ने यह कदम एहतियातन बढ़ाया है. शंभू बॉर्डर पर बड़ी संख्या में किसान जुटे हैं जिन्हें रोकने के लिए पुलिस अलग-अलग कार्रवाई कर रही है.

जब कुछ युवाओं ने लोहे का बैरिकेड तोड़ दिया और उसे घग्गर नदी के पुल से नीचे फेंकने की कोशिश की, तो पुलिस ने कई राउंड आंसू गैस के गोले छोड़े. बाद में उन्होंने आंसू गैस का गोला गिराने के लिए ड्रोन का भी इस्तेमाल किया.

केंद्रीय मंत्रियों के साथ बैठक रही नाकाम 

फसलों के लिए एमएसपी की कानूनी गारंटी समेत अपनी मांगों को लेकर दो केंद्रीय मंत्रियों के साथ बैठक बेनतीजा रहने के बाद किसानों ने अपनी मांगों पर दबाव बनाने के लिए मंगलवार सुबह 'दिल्ली चलो' मार्च शुरू किया.

संयुक्त किसान मोर्चा (गैर-राजनीतिक) और किसान मजदूर मोर्चा ने घोषणा की है कि किसान फसलों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) की गारंटी के लिए कानून बनाने सहित अपनी मांगों को स्वीकार करने के लिए केंद्र पर दबाव बनाने के लिए दिल्ली जाएंगे.

ये भी पढ़ें: Farmers Protest: दिल्ली हरियाणा के आंदोलनकारियों को महाराष्ट्र के किसानों का समर्थन, प्याज की एमएसपी मांगी

किसानों आंदोलन को लेकर चक्का जाम की स्थिति!

किसानों के दिल्ली कूच को लेकर लेकर गाजीपुर बॉर्डर पर बड़े पैमाने पर पुलिस फोर्स तैनात किया गया है. किसानों को बॉर्डर पर ही रोका का जा सके, इसके लिए दिल्ली पुलिस ने दोनों सर्विस रोड को पहले ही सील कर दिया है. साथ ही गाजीपुर बॉर्डर के लिए जाने वाले फ्लाईओवर पर भी बेरेकेड्स लगाए गए हैं जिससे धीमी रफ्तार में यहां से वाहन गुजर पा रहे हैं. ऐसे में बॉर्डर एरिया में गाजियाबाद की तरफ लंबा जाम नजर आ रहा है और वाहनों के निकलने की रफ्तार बेहद धीमी है. इससे आज घरों से बाहर निकले लोगों को अपने गंतव्यों तक जाने में देरी हो रही है और परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. लंबा जाम यहां नजर आ रहा है.

वही गाजियाबाद पुलिस भी जाम से लोगों को निकालने में जुटी है. गाजियाबाद ट्रांस हिंडन जोन के डीसीपी निमिष पाटिल के अनुसार यहां गाजियाबाद पुलिस की तरफ से भी भारी पुलिस बल को तैनात किया गया है. क्युआरटी टीम के अलावा पीएसी भी गाजीपुर बॉर्डर पर तैनात की गई है. डीसीपी ट्रांस हिंडन निमिष पाटिल ने बताया कि किसानों को लेकर पुलिस अलर्ट मोड पर है. हाईवे पर लगे जाम को भी खुलवाने के लिए ट्रैफिक पुलिस लगी हुई है. उन्होंने बताया कि अभी किसानों के आने को लेकर कोई इनपुट नहीं है और अगर किसान आते हैं तो उन्हें रोकने के लिए प्रयाप्त फोर्स लगाई गई है.

पंजाब से दिल्ली के लिए किसान रवाना 

आज 13 फरवरी को किसानों ने दिल्ली के लिए कूच करना शुरू कर दिया है. किसानों ने पंजाब के फतेहगढ़ साहिब से अपना 'दिल्ली चलो' मार्च शुरू किया.पंजाब से किसानों को लेकर करीब एक दर्जन ट्रैक्टर शंभू बॉर्डर पर पहुंचे हैं. पंजाब पुलिस की ओर से कोई प्रतिरोध नहीं किया गया. हालांकि, पुलिस ने सीमा सील कर दी है, जिसके चलते किसान हरियाणा में प्रवेश नहीं कर पा रहे हैं.

दिल्ली के सिंघू बॉर्डर पर जाम, सीआरपीएफ तैनात

दिल्ली के सिंघू बॉर्डर पर आज किसानों के 'दिल्ली चलो' मार्च से यातायात बाधित हो गया है. दिल्ली में सीमा बिंदुओं पर मल्टी-लेयर बैरिकेड्स, कंक्रीट ब्लॉक, लोहे की कीलें और कंटेनरों की दीवारों के साथ सुरक्षा बढ़ा दी गई है. किसानों के विरोध मार्च के मद्देनजर ITO चौराहे पर दिल्ली पुलिस के जवान और बैरिकेड तैनात किए गए, CRPF की धारा 144 लागू की गई है.